समर्थक

शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

कुछ और ...

मन बैचेन है कभी कभी कविताओं से भटक जाता है....विषम पर्वतीय परिस्थितिया जीना सीखा देती है 
उनमें से कुछ प्रेरणा स्रोत  ये भी हैं...
(ब्रह्मकमल)
                                                           पंखुड़ियों में रंग 
                                     साधारण ही सही 
                                      पर सीखा ही देते हैं
                                    निष्ठुर परिस्थितियों 
                                      में सृजन .... 
(बुरांश)
                                                            रंग तुम्हारा 
                                      जीने की सीख देता है
                                      समर्पण सम्पूर्णता से
                                      भले ही... 
                               संसार हो सुनसान,निर्जन ..
(बुरांश और  फ्यूंली)
                                                      पहाड़ी लोककथाएं
                                   अपूर्ण हैं तुमसे
                                   तुम्हारे त्याग बलिदान को
                                   शत-शत नमन.... 

 {{{ब्रह्मकमल ऊचाई पर पायी जानी वाली वनस्पति है...और जब बुरांश जंगलों में खिलाता है है तो ऐसा प्रतीत
   होता है की प्रकृति संवाद कर रही हो......फ्यूंली बसंतागमन का संकेत .......}}}
          
 

गुरुवार, 12 अप्रैल 2012

बेवजह ...

शुरुआत का पता मुझे
अंत की खबर भी
फिर भी बैचेन हूँ
बेवजह...

हाथों की लकीरें 
रंगी हैं तमाम रंगों से
फिर भी कुछ रंग 
तलाशती हूँ
बेवजह...

डोर ही डोर
उन्हें थामे मैं ही मैं
हवा का रुख भी मेरी ओर
फिर भी हूक ये क्यूँ
बेवजह...

तू तो पास ही मेरे
और हमराह भी
फिर तुझे क्यूँ ढूँढती हूँ
बेवजह...!!!
   
   

मंगलवार, 3 अप्रैल 2012

प्रश्न

घुटन तो होती है 
दफन होने  में
पर परत-परत दफन होना...?

आखिर क्यूँ ना मिलती
मेरे मन की परिभाषाएं 
तुम्हारे मन से...??

और क्यूँ हर
बात के बाद
एक संतुलित 
मानसिक  अंत...???