समर्थक

मंगलवार, 17 दिसंबर 2013

सार

ये पंक्तिया काफी प्रभावित करती है ....

शुक्रवार, 29 नवंबर 2013

शब्द..

बीती शाम जलते दीयों से पूछा
जलोगे तुम...बुझोगे तुम...
फिर क्यूँ ये सब??
वो मुस्कुराये फिर बोले
थमना ...तुम क्या जानो
जल कर बुझना
तुम क्या जानो...!!

शनिवार, 5 अक्तूबर 2013

शब्द

स्याह
सफेद
कागज़
मेरे
ना
जान
सके
थमने की वजहें.....
तेरी थाह
मुझसे कह
गयी
ना
मि ला
अब तक
तुझसा
अजनबी...!

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

ईद मुबारक

बड़ा अजीब
मेरे इश्क 
का हिसाब...
सदियाँ
जमाने को
मुझे कल
की बात...!!
      ब्लॉग परिवार को मेरी तरफ से "ईद मुबारक"

रविवार, 14 जुलाई 2013

मैं और मेरा उत्तराखंड

      उत्तराखंड की त्रासदी किसी से छुपी नहीं है कुछ भी बोलना मुझे स्वयं को भी सहन नहीं होगा।
इस दैवीय आपदा पर कुछ पंक्तिबद्ध करना मेरी आपनी मौत पर जश्न मनाने समान होगा। अभी भी जहाँ मैं रहती हूँ यहाँ अखबार नहीं आया बिना रास्तेे पुल के विद्यालय बंद है।बुनयादी सुविधाए न के बराबर... इंटरनेट है क्यों कि ये बुनियादी सुविधा में नही आता..और हां इतनी ख़ामोशी हैं की खुद की आवाज भी चुभ जाती हैं... और सबसे अजीब बात केदारनाथ में प्रलय की बात 20जून को पता चलीं
क्यों कि उस विपदा में संपर्क खुद तक ही रह पाया।
अंत में यही कहना है  कि श्री केदार धाम ने अपने ही पर्याय वाची शब्द को चरितार्थ किया हैं वो है "जलीय"   या  "दलदल"

बस यही कहूँगी....
""क्या कुछ बिखरा टूटा
    इन पहाड़ो से पूछो
ये आवाज ना दें
तो हम पहाडियों से पूछो""

बुधवार, 5 जून 2013

मैं ही क्यूँ?

कभी उनींदी
कभी जागती
उन ख्वाबो के
सिरहाने में
मैं ही क्यूँ...

कुछ बदलता
कुछ ठहरता
इन मौसमों की
ठिठुरन में
मैं ही क्यूँ..?

शुक्रवार, 24 मई 2013

क्यूँ

आगाज़ खामोश
अंजाम खामोश
सफ़र खामोश
साथ खामोश
फिर शोर क्यूँ???
दफ्न होने में

सोमवार, 6 मई 2013

प्यार

प्यार क्या है?
मालूम नहीं

कभी मिला?
....?!?!?

हां... पर कभी कभी
हथेली पर कटी सी
रेखा दिखती हैं
क्या वो प्यार है??

या फिर निकल आता है
जो एक कतरा
बगैर इजाजत
या फिर ये प्यार है???ै

गुरुवार, 18 अप्रैल 2013

:):)

याद है अब तक
वो बचपन में पूजा जाना
वो पैर धुलना
माथे पर टीका चुनर
इस घर से उस घर
अपने सिक्के सँभालते
मन थमते नही थमता था

कितना अजीब है
अर्थ समझ आते गए
उम्र के साथ साथ
और ह्रदय गहराता गया ....!!!

गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

:)

कुछ जला बुझा फिर से मेरे भीतर
सुर्ख हुआ... पर खाक ना हुआ..!!!

बुधवार, 13 फ़रवरी 2013

मेहरबां खुदा


                                                       मेहरबां खुदा 

                                                       तकलीफ जरा कम   

                                                       हुई अबकी बार 

                                                       वरना .....

                                                       वो आये उसी  अंदाज में 

                                                       लौटे उसी अंदाज में ...!!!

गुरुवार, 24 जनवरी 2013

संवाद

 
कुछ संवाद होते हैं
मुखोटों से अभिप्रेरित   
और  कुछ
किरदारों में रचे-बसे

कुछ धीमे -धीमे तो
कुछ बेसुरे
अंतहीन,अर्थहीन ...

कुछ  प्रस्तुति
 मेरे  किरदार की भी है
स्पष्ट, अखंड , विस्तृत ...
पर है सवाद ही ना
वही दोहराव , वही शब्द


और हाँ ........
एक संवाद तुमसे भी है
 निरंतर ......मूक और अदृश्य ....!!!

शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

"शब्द"

                                                      
                                                       मूक वार्तालाप 
                                                        हाँ ....ना ..
                                                        इन  दो में ही
                                                       तमाम ...बातें
                                                       शून्य ....!


                                                        रुदन ह्रदय का
                                                         तुम्हारे कटाक्ष से
                                                         और  अंग अंग
                                                         बिखरा
                                                         पर मन
                                                         अविभाज्य  ...!!

                                                          अट्टाहस   और सन्नाटे
                                                          दोनों चारो ओर 
                                                          बढ़ा  स्पर्श
                                                          पर ....समाप्त
                                                          सामीप्य .. !!!

सोमवार, 7 जनवरी 2013

हमारे हिस्से की मौते ...

न जाने कितनी मौते
रह रह कर हमारे हिस्से आती हैं
कुछ वजूद से बतियाती
तो कुछ बेझिझक- बेरोकटोक

बनाने वाले ने फर्क न  किया
कराह -दर्द माँ को एक सा दिया 
फिर क्यूँ ???हमारे हिस्से
ऐसी मौते
 और  वो तीसरे महीने की मौ ..त ...