समर्थक

गुरुवार, 24 जनवरी 2013

संवाद

 
कुछ संवाद होते हैं
मुखोटों से अभिप्रेरित   
और  कुछ
किरदारों में रचे-बसे

कुछ धीमे -धीमे तो
कुछ बेसुरे
अंतहीन,अर्थहीन ...

कुछ  प्रस्तुति
 मेरे  किरदार की भी है
स्पष्ट, अखंड , विस्तृत ...
पर है सवाद ही ना
वही दोहराव , वही शब्द


और हाँ ........
एक संवाद तुमसे भी है
 निरंतर ......मूक और अदृश्य ....!!!

शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

"शब्द"

                                                      
                                                       मूक वार्तालाप 
                                                        हाँ ....ना ..
                                                        इन  दो में ही
                                                       तमाम ...बातें
                                                       शून्य ....!


                                                        रुदन ह्रदय का
                                                         तुम्हारे कटाक्ष से
                                                         और  अंग अंग
                                                         बिखरा
                                                         पर मन
                                                         अविभाज्य  ...!!

                                                          अट्टाहस   और सन्नाटे
                                                          दोनों चारो ओर 
                                                          बढ़ा  स्पर्श
                                                          पर ....समाप्त
                                                          सामीप्य .. !!!

सोमवार, 7 जनवरी 2013

हमारे हिस्से की मौते ...

न जाने कितनी मौते
रह रह कर हमारे हिस्से आती हैं
कुछ वजूद से बतियाती
तो कुछ बेझिझक- बेरोकटोक

बनाने वाले ने फर्क न  किया
कराह -दर्द माँ को एक सा दिया 
फिर क्यूँ ???हमारे हिस्से
ऐसी मौते
 और  वो तीसरे महीने की मौ ..त ...