समर्थक

रविवार, 4 जनवरी 2015

नव वर्ष

कुछ सांचे
कुछ आकृति
कुछ यादें
दरवाजों पर
लगी सांकल सी ..!

शुभ वर्ष