फ़ॉलोअर

रविवार, 16 मई 2021

क्षणिका

हां 
सच है 
देहरी पार की मैंने 
वर्जनाओं की
रुढ़िवाद की 
पाखंड की
कुंठा की ....

ओह
सभ्य समाज ....!
तुम्हारी ओर से 
सिर्फ घृणा .?

कहो
इतने नाजुक कब से हो लिए?
किसी स्त्री के प्रति...??


1 टिप्पणी: