समर्थक

शनिवार, 17 मार्च 2012

और मैं ...

वो विस्तार बढ़ाते गए
कदम -कदम पर 
और मैं शब्द अपने 
संक्षिप्त करते गयी


ना चुभे मेरे सवालों के
तीर तेरे जेहन में      
 मैं  खुद ही धार अपनी
कुंद करती गयी 


क्या संबंधों  का ख़ारिज
होना नहीं सताता  तुम्हें .?
सोचकर.. स्वयं में
ही मैं घुलती रही..


वो परवाज कहती है
आ चल अब लौट चले
पर मैं ही अपने पंखों 
पर सिमटती रही


वो कहते है उम्र को
सिसकियों में ना बांध
क्या जाने..
मैं क्यूँ, कब, कैसे
बिखरते गयी...      


 

31 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!
    बहुत भावुक रचना ....

    वो कहते है उम्र को
    सिसकियों में ना बंद....यहाँ क्या टंकण त्रुटि है??? सिसकियों में ना बाँध होना था क्या??
    अन्यथा ना लें...

    सदर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावो की बहुत नाजुक अभिव्यक्ति...
    भाव विभोर करती बेहद सुन्दर रचना:-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......

    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावो की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या संबंधों का ख़ारिज
    होना नहीं सताता तुम्हें .?
    सोचकर.. स्वयं में
    ही मैं घुलती रही..
    बड़े ही गूढ़ भाव ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद रश्मि जी ...आपकी टिप्पणी नई उर्जा का संचार करती है..

      हटाएं
  6. भावुक ||

    सुन्दर अभिव्यक्ति ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी उपस्थिति ने मेरे ब्लॉग की गरिमा बढाई है...

      हटाएं
  7. वो परवाज कहती है
    आ चल अब लौट चले
    पर मैं ही अपने पंखों
    को सिमटती रही...
    शब्दों को सुन्दरतापूर्ण ढंग से पिरोकर भावमय कविता बनाना आपकी खूबी है. यह कविता भी अभिव्यक्ति को नया आयाम देने की आपकी शैली की परिचायक है. आभार !
    ऊपर जो आपने लिखा है कि
    "....पर मैं ही अपने पंखों को सिमटती रही... "
    क्या ऐसा ही लिखा जाना था ? मेरे ख्याल से इसे
    "...पर मैं ही अपने पंखों को समेटती रही...."
    या फिर "....मै ही अपने पंखों पर सिमटती रही..." लिखा जाना था.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. SIR..आपका हार्दिक आभार...एवं वर्तनी सम्बन्धी शुद्धता हेतु सचेत करने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद... आगे भी आपके मार्गदर्शन की इच्छुक रहूंगी .....'.को ' को 'पर'करने पर शायद मेरी पंक्तियों का तात्पर्य बढ़ जाए..

      हटाएं
  8. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    वाह...बहुत सार्थक रचना..शब्द शब्द बाँध लेता है ...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. aah!! aapki kalaatmakta ne vibhor kar diya!!!
    typing errors google translator ke kaaran aksar ho jati hain
    par isse kavita ke bhaav par fark nahi pada
    ye kavita shayad har mahila ke man me kabhi na kabhi apna ghar banaati hi hai.badhai!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आशा जी
    नमस्कार !
    वो कहते है उम्र को
    सिसकियों में ना बांध
    क्या जाने..
    मैं क्यूँ, कब, कैसे
    बिखरते गयी...
    .......इस उत्कृष्ट रचना के लिए ... बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. ना चुभे मेरे सवालों के
    तीर तेरे जेहन में
    मैं खुद ही धार अपनी
    कुंद करती गयी
    SUNDAR

    उत्तर देंहटाएं
  13. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    इस मार्मिक रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर लिखा आप ने,मेरे ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित है

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच्चे दिल की चाहत ऐसी ही होती है . अति सुन्दर लिखा है..

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब ...
    शुभकामनायें आपको ... !

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या संबंधों का ख़ारिज
    होना नहीं सताता तुम्हें .?
    सोचकर.. स्वयं में
    ही मैं घुलती रही..

    क्यों हमेशा एक औरत ही संबंधों को सहजने में जुटी रहती है .....मर्मस्पर्शी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्या संबंधों का ख़ारिज
    होना नहीं सताता तुम्हें .?
    सोचकर.. स्वयं में
    ही मैं घुलती रही..

    बड़ी ही भाव प्रवण रचना, वाह !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. रचना के गहरे भाव मन को छू गए. नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह ! ! ! ! ! बहुत खूब सुंदर रचना,बेहतरीन भाव प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही उम्दा रचना है ,बधाई आप को

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं