समर्थक

बुधवार, 9 नवंबर 2011

परिवर्तन

एक उलझन  है ये परिवर्तन 
न माने तेरी ,न माने मेरी 
खींच ही लेता है मनोवेगों से 
ये प्रवर भंवर सा परिवर्तन 

कभी मध्यम सा 
कभी भूचाल सा 
कभी सरसराता 
है ये अजीब सा परिवर्तन 

मैं तो चलाचल हूँ 
अपनी ही चाल में 
मुझे रौंदता सा 
आगे बढ जाता है
ये उन्मादी  सा परिवर्तन  ....!!!!  

20 टिप्‍पणियां:

  1. कौन सा परिवर्तन है आशा जी ये तो बताया नहीं आपने .....?
    ये उन्माद किस चीज का है .....?
    बहरहाल ये परिवर्तन ही ज़िन्दगी में नए रंग लाते हैं ....:))

    उत्तर देंहटाएं
  2. परिवर्तन का अच्छा वर्णन किया है आपने..
    अच्छी प्रस्तुति है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. परिवर्तन संसार का नियम है।
    बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. परिवर्तन तो जीवन का अभिन्न अंग है ..अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. परिवर्तन संसार में होता आया है ..अत्यंत ही सुन्दर प्रस्तुति मेरे ब्लॉग में आने के लिये हार्दिक आभार आपको हार्दिक शुभ कामनायें !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरकीरत जी ..
    रीना जी
    अतुल जी ..
    संगीता जी
    डिमरी जी..आप सभी का उत्साहवर्धन हेतु धन्यवाद..
    हरकीरत जी...आप मेरे ब्लॉग पर आई आपका पुन हार्दिक धन्यवाद ..जहाँ तक परिवर्तन का सवाल है यह परिवर्तन समाज , व्यक्तित्व ,भावनाओ से जुडा है .....इति

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं तो चलाचल हूँ
    अपनी ही चाल में
    मुझे रौंदता सा
    आगे बढ जाता है
    ये उन्मादी सा परिवर्तन ....!!!!

    Bahut Sunder .... Gahari Baat liye Panktiyan

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर!
    कितना ज़माने से लड़ा
    फिर भी यहीं पीछे खड़ा

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति , बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. संसार के इस नियम को शब्दों में बंधा है आपने बहुत ही सहजता से ... अच्छी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन भावाभिव्यक्ति,कम शब्दों में व्यापक भाव संजोये हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  12. कभी कभी हालात ऐसे ही होते है .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. आशा जी...जीवन का नाम ही परिवर्तन है अगर परिवर्तन नही होगा
    तो,हर चीज स्थिर हो जायेगी,...सुंदर पोस्ट ...
    मेरे नए पोस्ट -वजूद-में स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  14. परिवर्तन का अच्छा वर्णन किया है
    सुन्दर प्रवाहमान रचना ! आपकी लेखनी भी निरंतर चलती रहे यही कामना है !

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut hi sateek aur gahan chintan ki aor aapki
    vilakxhanta ki taraf ishara karti hain ye panktiyan.
    bahut bahut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. नमस्कार आशा जी....बहुत दिनों से ब्लाग जगत से दूर था....इस बीच बहुत से नये लोग दिख रहे है...आपके ब्लाग पर पहली बार आना हुआ...बहुत ही खुबसूरती है आपकी लेखनी में...यूँही लिखती रहे...शुभकामनाएं.........।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये उन्मादी सा परिवर्तन ....!!!! wah.....

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर पोस्ट,समय अनुसार परिवर्तन तो होगा..
    मेरे पोस्ट में स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं