समर्थक

गुरुवार, 24 नवंबर 2011

आधे अधूरे.......

[१]
हर  पल की परछाई 
आ घेर ले मुझे 
अब न कोई तमन्ना 
अब न कोई कसक
रह सका अब मेरे  मन में 
सिर्फ दर्द.......
वो भी थोडा सा...
 [२] 
कह दिया फरिश्तों से 
अब रहमो करम कम कर
इन मेहरबानियों को 
रखूं तो कहाँ रखूं... 
[३] 
हम रिश्तों के समन्दर में 
झाग बन कर रह गए
गहराइयां जब बढती गई 
शुक्र है डूबने से तो बच गए.....

33 टिप्‍पणियां:

  1. हम रिश्तों के समन्दर में
    झाग बन कर रह गए
    गहराइयां जब बढती गई
    शुक्र है डूबने से तो बच गए.....

    कशक..... कसक *
    सुंदर भावों से ओत प्रोत रचनाएं .....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. केवल जी सचेत करने के लिए ...आभार
    एवं टिप्पणी रूपी प्रोत्साहन हेतु हार्दिक आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम रिश्तों के समन्दर में
    झाग बन कर रह गए
    गहराइयां जब बढती गई
    शुक्र है डूबने से तो बच गए.....

    लाजवाब पंक्तियाँ हैं।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब,,,,सुन्दर

    http://www.poeticprakash.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. कल 27/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर और सार्थक प्रस्तुति
    टी0वी0100 ब्लॉग पर आपका स्वागत है। इस ब्लॉग में योगदान(लिखने) देने के लिए
    अपना ई-मेल पता, हमारे इस ई-मेलपते tv100news@gmail.com पर भेजें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कह दिया फरिश्तों से
    अब रहमो करम कम कर
    इन मेहरबानियों को
    रखूं तो कहाँ रखूं... बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  8. तीनो ही बाते बहुत ही अच्छी है..
    .हम रिश्तों के समन्दर में
    झाग बन कर रह गए
    गहराइयां जब बढती गई
    शुक्र है डूबने से तो बच गए.....
    खासकर यह बात तो बहुत ही जादा अच्छी है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कह दिया फरिश्तों से
    अब रहमो करम कम कर
    इन मेहरबानियों को
    रखूं तो कहाँ रखूं..
    अत्यंत ही भावपूर्ण प्रस्तुति...शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सही लिखा है ..अच्छी क्षणिकाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. यशवंत जी
    प्रकाश जी
    अतुल जी
    अनुपमा जी
    संतोष जी
    रश्मि जी
    रीना जी
    डिमरी जी
    संगीता जी
    और tv १०० आप सभी का हार्दिक आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  12. हम रिश्तों के समन्दर में
    झाग बन कर रह गए
    गहराइयां जब बढती गई
    शुक्र है डूबने से तो बच गए.....bahut khub.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! बहुत ही सुन्दर लिखतीं हैं आप,आशा जी.
    हलचल में आपकी प्रस्तुति देख बहुत ही खुशी मिली.
    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. @अब रहमो करम कम कर
    इन मेहरबानियों को
    रखूं तो कहाँ रखूं...

    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर भावों से बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  16. आशा जी,..
    भाव पूर्ण सुंदर क्षनिकाएं प्यारी पन्तियाँ,...बधाई
    मेरी नये पोस्ट "प्रतिस्पर्धा"में इंतजार है,.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप की रचना बड़ी अच्छी लगी और दिल को छु गई
    इतनी सुन्दर रचनाये मैं बड़ी देर से आया हु आपका ब्लॉग पे पहली बार आया हु तो अफ़सोस भी होता है की आपका ब्लॉग पहले क्यों नहीं मिला मुझे बस असे ही लिखते रहिये आपको बहुत बहुत शुभकामनाये
    आप से निवेदन है की आप मेरे ब्लॉग का भी हिस्सा बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
    धन्यवाद्
    दिनेश पारीक
    http://dineshpareek19.blogspot.com/
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरे नए पोस्ट पर आइये इंतजार है,...

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं दिनेश पारीक आज पहली बार आपके ब्लॉग पे आया हु और आज ही मुझे अफ़सोस करना पद रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर शायद ये तो इश्वर की लीला है उसने तो समय सीमा निधारित की होगी
    बात यहाँ मैं आपके ब्लॉग की कर रहा हु पर मेरे समझ से परे है की कहा तक इस का विमोचन कर सकू क्यूँ की इसके लिए तो मुझे बहुत दिनों तक लिखना पड़ेगा जो संभव नहीं है हा बार बार आपके ब्लॉग पे पतिकिर्या ही संभव है
    अति सूंदर और उतने सुन्दर से अपने लिखा और सजाया है बस आपसे गुजारिश है की आप मेरे ब्लॉग पे भी आये और मेरे ब्लॉग के सदशय बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
    धन्यवाद
    दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 28/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    उत्तर देंहटाएं