समर्थक

शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

ओह...

अजीब खरी- खरी 
पथरीली सी जिन्दगी
हम अपना काव्यांश
ढूँढते रह गए..
जाने कब शुरू कब 
ख़त्म हुई कहानी
हम मध्यांश
ढूँढते रह गए..
ओह...
कितने सलीके से पूछ गए
कैसा रहा सफ़र
और हम अपना सारांश 
 ढूँढते रह गए. 

40 टिप्‍पणियां:

  1. कविता का भाव बहुत ही अच्छा लगा । मेरे पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह आशा जी वाह...
    छोटी सी मगर बहुत प्यारी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच में हम तो बस आपकी रचना की गहराई में खो गए.... खुद को ढूँढते रह गए..... बहुत ही उम्दा....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कितने सलीके से पूछ गए
    कैसा रहा सफ़र.....very nice.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना।
    कम शब्‍दों में काफी गहरी बात।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस खोने और ढूँढने के बीच हम ही गुम हो गए

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर,
    बेहतरीन सारगर्भित रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह! क्या खूब कही!!!
    यह खोज ही जीवन की आधारशिला है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 27/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. "जाने कब शुरू कब
    ख़त्म हुई कहानी
    हम मध्यांश
    ढूँढते रह गए..

    बेहतरीन, अति सुन्दर कविता... धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ....बहुत सुन्दर ,सार्थक और अर्थपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. सार्थक प्रस्तुति, सुन्दर भावाभिव्यक्ति, सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये तलाश हमेशा जारी रहती है ... जीवन भर ...
    गहरी रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहन भाव लिए प्रस्तुति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. कम शब्दों में बहुत कुछ कह दिया

    उत्तर देंहटाएं
  16. चंद शब्द पूरा जीवन उकेर गए!...बहुत ही प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर ताना बाना है रचना का ,laazab.

    उत्तर देंहटाएं
  18. और हम सारांश ढूंढते रह गए......वाह.....बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  19. कितने सलीके से पूछ गए
    कैसा रहा सफ़र
    और हम अपना सारांश
    ढूँढते रह गए.
    सहज सरल शब्दों में सत्य को कितने सार्थक ढंग से आपने कहा....

    उत्तर देंहटाएं
  20. खुबसूरत अभिव्यक्ति ...... स:परिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही प्यारी रचना...
    आपकी कई रचनाये पढ़ी...दिल तक पहुंची...
    आज से फोलो करती हूँ...सो साथ बना रहेगा...

    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  22. सहज सरल अभिव्यक्ति |सुन्दर भाव |
    होली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  23. सहज शब्दों में सुंदर भाव अभिव्यक्ति...लाजबाब पोस्ट
    फालोवर बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,...
    NEW POST...फिर से आई होली...
    NEW POST फुहार...डिस्को रंग...

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप को होली की खूब सारी शुभकामनाएं

    नए ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित है

    नई पोस्ट

    स्वास्थ्य के राज़ रसोई में: आंवले की चटनी
    razrsoi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुन्दर रचना... बहुत बहुत बधाई...
    होली की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  26. सारांश ढूँढते रह गए...बहुत खूब!
    होली की ढेरों शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  27. कितने सलीके से पूछ गए
    कैसा रहा सफ़र
    और हम अपना सारांश
    ढूँढते रह गए. ati sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत कुछ छिपा है यादों में ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं