समर्थक

सोमवार, 2 जुलाई 2012

शब्द

खोज लिया
निरुत्तर
प्रश्न
मैं कौन?
रेखाएं
कहती गई
तस्वीरें
सारी ..
पर
अस्तित्व
कहाँ ??
तू मेरा
और मैं
तेरा
जलती लौ
संग
भड़कता
गया
ये
उद्वेलित
उत्तर ...!!! 

24 टिप्‍पणियां:

  1. अस्तित्व
    कहाँ ??
    बस यही तो सवाल है जिसका उत्तर नहीं मिलता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूरा जून शायद आपने इस निरुत्तर प्रश्न के खोज में लगा दिया आशा जी! और वह भी अस्तित्वहीन निकला।
    वाह, क्या कहना आशा जी! एक संग्रहणीय रचना। आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा आपने ...तू मेरा मैं तेरा ...इस अनुपात में सिर्फ मेरा 'मैं' ही ख़त्म होता जाता है ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. इन सब में मैं तो अक्सर खो जाता है ... तू मेरा और मेरे अस्तित्व में खो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत उम्दा सटीक रचना,,,,

    MY RECENT POST...:चाय....

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं कौन?
    निरुत्तर प्रश्न.

    तू मेरा
    और मैं
    तेरा
    जलती लौ
    संग
    भड़कता
    गया
    ये
    उद्वेलित
    उत्तर ...!!!

    सुन्दर दार्शनिक अभिव्यक्ति.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा,आशा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


    प्रवरसेन की नगरी
    प्रवरपुर की कथा



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ आपकी पोस्ट की चर्चा वार्ता पर" ♥


    ♥शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर गहन अर्थ की रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. ...मैं की बेहतर तलाश गहन अर्थ की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. chad panktiyon me gahri abhivykti----
    badhai---bahut hi achhi prastuti ke liye---
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  11. रेखाएं
    कहती गई
    तस्वीरें
    सारी ..
    पर
    अस्तित्व
    कहाँ ??
    तू मेरा
    और मैं
    तेरा

    bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है बस असे ही लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये

    उत्तर देंहटाएं