समर्थक

शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

"शब्द"

                                                      
                                                       मूक वार्तालाप 
                                                        हाँ ....ना ..
                                                        इन  दो में ही
                                                       तमाम ...बातें
                                                       शून्य ....!


                                                        रुदन ह्रदय का
                                                         तुम्हारे कटाक्ष से
                                                         और  अंग अंग
                                                         बिखरा
                                                         पर मन
                                                         अविभाज्य  ...!!

                                                          अट्टाहस   और सन्नाटे
                                                          दोनों चारो ओर 
                                                          बढ़ा  स्पर्श
                                                          पर ....समाप्त
                                                          सामीप्य .. !!!

16 टिप्‍पणियां:

  1. मूक वार्तालाप
    हाँ ....ना ..
    इन दो में ही
    तमाम ...बातें
    शून्य ....!
    निर्णय भी शून्‍य ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर पंक्ति सच्चाई से लबरेज़....ऐसा क्यूँ होता है मगर ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिन्दगी की आपाधापी में व्यस्तता के कारण आपके ब्लॉग पर काफी दिनों बाद आया। माफी चाहूंगा।
    इस उत्कृष्ट रचना के लिये आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जय जवान जय किसान जय हिन्द - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन के भावों को सशक्त रूप में लिखा है ॥

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है शून्य में ही सब कुछ समा जाता है ...
    मन के भावों को दिशा दि है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. vikram7 ने आपकी पोस्ट " "शब्द" " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    Ati prbavi rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  8. मूक वार्तालाप
    हाँ ....ना ..
    इन दो में ही
    तमाम ...बातें
    शून्य ....!
    सशक्त प्रस्तुति. अनुपम भाव.

    लोहड़ी, पोंगल, मकर संक्रांति और बिहू की बधाइयाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पहला वाला बहुत उम्दा.........वक़्त मिले तो जज़्बात पर भी आयें ।

    उत्तर देंहटाएं