समर्थक

गुरुवार, 12 अप्रैल 2012

बेवजह ...

शुरुआत का पता मुझे
अंत की खबर भी
फिर भी बैचेन हूँ
बेवजह...

हाथों की लकीरें 
रंगी हैं तमाम रंगों से
फिर भी कुछ रंग 
तलाशती हूँ
बेवजह...

डोर ही डोर
उन्हें थामे मैं ही मैं
हवा का रुख भी मेरी ओर
फिर भी हूक ये क्यूँ
बेवजह...

तू तो पास ही मेरे
और हमराह भी
फिर तुझे क्यूँ ढूँढती हूँ
बेवजह...!!!
   
   

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही खुबसूरत लगी पोस्ट....शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सब कुछ होते हुए बेवज़ह की परेशानी परेशान करती है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनुपम भाव लिए सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट .

    आशा जी,बहुत दिनों से मेरे पोस्ट पर नही आई आइये स्वागत है,...

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर...................
    कभी कभी कोई अनजानी असुरक्षा करती है बेचैन.......
    हम सभी को............

    बहुत अच्छे भाव समेटे हैं...........

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर बात की कुछ ना कुछ बजह होती हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाथों की लकीरें
    रंगी हैं तमाम रंगों से
    फिर भी कुछ रंग
    तलाशती हूँ
    बेवजह...

    बेवजह नहीं, कुछ तो वजह है, हमारी उम्मीदें बहुत ज्यादा होतीं...सुन्दर रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. तू तो पास ही मेरे
    और हमराह भी
    फिर तुझे क्यूँ ढूँढती हूँ
    बेवजह...!!!बेहतरीन अंदाज़.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्मीदो पर ही दुनिया कायम है.. बहुत सुन्दर भाव है आशा..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. शुरुआत का पता मुझे
    अंत की खबर भी
    फिर भी बैचेन हूँ
    बेवजह... पता होना कुछ और पता करता है और एक अनजानी आहटों से बेचैन होता है

    उत्तर देंहटाएं
  10. फिर भी हूक ये क्यूँ
    बेवजह...

    दिल कभी झूठ नहीं बोलता...
    सुंदर अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  11. तू तो पास ही मेरे
    और हमराह भी
    फिर तुझे क्यूँ ढूँढती हूँ
    बेवजह...!!!
    .ऐसा अक्सर होता है जीवन में ....बहुत सुन्दर आशाजी

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये बैचेनी है जो अक्सर आ जाती है ... बहुत लाजवाब लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. संबंधों की उदासीनता पैदा करती है ये बे चैनी .संबंधों की आंच अकसर बुझी रहती है .अच्छी रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  14. kai bar bevajah man bhi ashant hota aur bhavuk man nai kavita ka srijan kar leta hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. ये बेवजह किया गया कई काम बहुत से अच्छे परिणाम की वजह बन जाता है।
    वेलकम और फॉलोअर बनने वाला बड़ा अच्छा विजेट लगा रखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  16. डोर ही डोर
    उन्हें थामे मैं ही मैं
    हवा का रुख भी मेरी ओर
    फिर भी हूक ये क्यूँ
    बेवजह...
    वाह.... वेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह!!!!बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर रचना

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं