समर्थक

शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

कुछ और ...

मन बैचेन है कभी कभी कविताओं से भटक जाता है....विषम पर्वतीय परिस्थितिया जीना सीखा देती है 
उनमें से कुछ प्रेरणा स्रोत  ये भी हैं...
(ब्रह्मकमल)
                                                           पंखुड़ियों में रंग 
                                     साधारण ही सही 
                                      पर सीखा ही देते हैं
                                    निष्ठुर परिस्थितियों 
                                      में सृजन .... 
(बुरांश)
                                                            रंग तुम्हारा 
                                      जीने की सीख देता है
                                      समर्पण सम्पूर्णता से
                                      भले ही... 
                               संसार हो सुनसान,निर्जन ..
(बुरांश और  फ्यूंली)
                                                      पहाड़ी लोककथाएं
                                   अपूर्ण हैं तुमसे
                                   तुम्हारे त्याग बलिदान को
                                   शत-शत नमन.... 

 {{{ब्रह्मकमल ऊचाई पर पायी जानी वाली वनस्पति है...और जब बुरांश जंगलों में खिलाता है है तो ऐसा प्रतीत
   होता है की प्रकृति संवाद कर रही हो......फ्यूंली बसंतागमन का संकेत .......}}}
          
 

30 टिप्‍पणियां:

  1. पंखुड़ियों में रंग
    साधारण ही सही
    पर सीखा ही देते हैं
    निष्ठुर परिस्थितियों
    में सृजन ....
    और बनाना अपनी पहचान !

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये खिले हुए फूल हमारे प्रेरणास्रोत बन जाते हैं...सही कहा आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. चित्र शब्दों क बयाँ कर रहे है.... या शब्द चित्र को बयाँ कर रहे है.... पर जो भी दिल के सारे एहसास उकेर कर शब्दों में आ गए है......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना.......
    प्रकृति के रंग सारे उतर आये आपके चंद लफ़्ज़ों में...

    बढ़िया!!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर रचना.......
    प्रकृति के रंग सारे उतर आये आपके चंद लफ़्ज़ों में...

    बढ़िया!!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  8. इन दुर्लभ फूलों के माध्यम से प्रकृति के आनन्दमय सौंदर्य का अनोखा रूप दिखाया आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुबसूरत फूल और उनसे जुडी जानकारी व कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. rachna sundar hai par usse khoobsurat hai in foolon ki tasveeren.... Mera pahaad, tumhara pahaad humara pahaad....aseem sundarata samete hai khud me!

    उत्तर देंहटाएं
  11. रंग तुम्हारा
    जीने की सीख देता है
    समर्पण सम्पूर्णता से
    भले ही...
    संसार हो सुनसान,निर्जन ..
    अनुपम भाव संयोजन इन पंक्तियों में ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ………सुन्दर भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच है इस प्राकृति में ... जीवन में ऐसा बहुत कुछ है जो बदल देता है परिस्थितियों कों ... सुन्दर शब्द ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. हर पंक्ति बहुत सुन्दर भाव समेटे है .... ..आभार एवं शुभ कामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह आशाजी ...कम शब्दों में गहरे भाव उकेर दिए ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  16. गहरे भाव सुन्दर संयोजन्।.
    आभार एवं शुभ कामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  17. रंग तुम्हारा
    जीने की सीख देता है
    समर्पण सम्पूर्णता से
    भले ही...
    संसार हो सुनसान,निर्जन

    gahan bhavo se paripoorn prabhavshali rachana ....badhai ke sath hi aamantran bhi

    उत्तर देंहटाएं
  18. कल 27/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. prakrati hi jeevan hai uske rangon me hi sukhdukh ki chhaya.
    bahut gahan abhivyakti.bahut sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत मनभावन झलकियों के साथ सुन्दर सार्थक रचना
    आजकल तो बुरांश के फूलों की छटा देखती ही बनती हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. धन्यवाद आपने मेरे ब्लॉग पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाया |

    उत्तर देंहटाएं
  22. सारगर्भित रचना । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. पुष्पों के माध्यम से सहज जीवन दर्शन, वाह !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही सुन्दर प्रकृति के सारे रंग समेटे बहुत सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्रकृति का सन्देश और तरीके दोनों ही अनूठे है. फूले के माध्यम से कही गयी सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं