समर्थक

सोमवार, 19 नवंबर 2012

खोजती हूँ ..

इन तहों में 
ख़ामोशी क्यूँ इतनी 
मैं तो सिर्फ  
मेरे होने को खोजती हूँ ..

दो दरवाजों के पीछे 
हंसा क्यूँ मन इतना 
भीड़ में गूंज है कहाँ ...?
खोजती हूँ ...

तेरे होने से 
ठहराव है मुझमे 
पर इश्क है कहाँ ...?
खोजती हूँ ... 

18 टिप्‍पणियां:

  1. यह तलाश जल्द ही पूरी हो .... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ... अनुपम भाव लिये उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो पाया सब अपने भीतर पाया....
    बहुत सुन्दर....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरे होने से
    ठहराव है मुझमे
    पर इश्क है कहाँ ...?
    खोजती हूँ ...

    बहुत सुंदर भाव ......
    इसी खोज से उपजती है इतनी सुंदर कविता .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके इस प्रविष्टी की चर्चा बुधवार (21-11-12) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरे होने से
    ठहराव है मुझमे
    पर इश्क है कहाँ ..
    खोजती हूँ ... वाह बहुत सुंदर भाव,,,

    recent post...: अपने साये में जीने दो.

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरे होने से
    ठहराव है मुझमे
    पर इश्क है कहाँ ...?
    खोजती हूँ ...

    बहुत ही सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. शायद बहुत से लोग इसी खोज में होंगे..... :)
    बहुत खूबसूरती से बयान किया है आपने इस अनोखी खोज को...
    ~सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. खूबसूरत भावपूर्ण रचना
    अरुन शर्मा - www.arunsblog.in

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति बधाई ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. खोजती हूँ ..

    इन तहों में
    ख़ामोशी क्यूँ इतनी
    मैं तो सिर्फ
    मेरे होने को खोजती हूँ ..

    दो दरवाजों के पीछे
    हंसा क्यूँ मन इतना
    भीड़ में गूंज है कहाँ ...?
    खोजती हूँ ...

    तेरे होने से
    ठहराव है मुझमे
    पर इश्क है कहाँ ...?
    खोजती हूँ ...

    बहुत सुन्दर रचना है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. "तेरे होने से
    ठहराव है मुझमे
    पर इश्क है कहाँ ...?
    खोजती हूँ ... "

    उत्तर देंहटाएं