समर्थक

गुरुवार, 12 जनवरी 2012

कुछ टूटा

कुछ टूटा फिर से..
 ना जाने क्या था 
क्या बुना था धीरे-धीरे
मन ने सोच कर तुम्हें
दर्द था,निकल आया
रोके से ना रुका....बस
बहता गया तमाम सिलवटें लिए...!

आये वो कुरेदने
तीखे- तीखे शब्दों से
मन था मेरा संभल गया
टूटना था जिसे जार-जार 
वो टूट गया...!!!!
  

56 टिप्‍पणियां:

  1. मन ने सोच कर तुम्हें
    दर्द था,निकल आया
    रोके से ना रुका....बस
    बहता गया तमाम सिलवटें लिए...!

    sundar...marmik...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है जब भी दर्द बहार आता है कोई न कोई उसे अपने शब्दों से कुरचने ज़रूर चला आता है सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. pallvi ji aap pahli baar mere blog par aayi aur sneh roopi comment diya...aapka abhar..

      हटाएं
  3. शांत भाव से कितना कुछ कह दिया -
    आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    मन था मेरा संभल गया
    टूटना था जिसे जार-जार
    वो टूट गया...!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको लोहड़ी की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    ----------------------------
    कल 13/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ....बहता गया तमाम सिलवटें लिए...!

    बेहतरीन रचना...बधाई स्वीकारें .

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर और मार्मिक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी जनों का सादर आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. मार्मिक अभिव्यक्ति...
    दर्द की भी आदत सी हो गई है
    हमें जब से मोहब्बत सी हो गई है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. अंतर्व्यथा को अभिव्यक्त करती एक सुन्दर प्रस्तुति. आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ टूटा फिर से..
    ना जाने क्या था
    क्या बुना था धीरे-धीरे
    मन ने सोच कर तुम्हें
    दर्द था,निकल आया
    रोके से ना रुका....बस
    बहता गया तमाम सिलवटें लिए...!
    मन को छूती , मार्मिक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. चंद पंक्तिया.....भावों से नाजुक शब्‍द........

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहरी अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    मन था मेरा संभल गया
    टूटना था जिसे जार-जार
    वो टूट गया...!!!!

    बहुत सुंदर मार्मिक प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. लोहडी और मकर संक्रांति की शुभकामनाएं.....


    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  16. bhaavnaoN ko yooN shabdoN meiN padhnaa
    bahut achhaa lagaa ...
    sundar rachnaa !

    उत्तर देंहटाएं
  17. संवेदनशील भाव ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर प्रस्तुति,बढ़िया मार्मिक अभिव्यक्ति रचना अच्छी लगी.....
    new post--काव्यान्जलि : हमदर्द.....

    उत्तर देंहटाएं
  19. यह रचना अपनी एक अलग विषिष्ट पहचान बनाने में सक्षम है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    मन था मेरा संभल गया
    टूटना था जिसे जार-जार
    वो टूट गया...!!!!

    सुंदर गहन अभिव्यक्ति.

    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही उत्तम रचना|मकरसंक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  22. आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    बहुत सुंदर रचना॥

    उत्तर देंहटाएं
  23. कुछ अलग सी रचना...बहुत ही सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपके हर पोस्ट नवीन भावों से भरे रहते हैं । पोस्ट पर आना सार्थक हुआ। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. टूटने वाली चीजें अक्सर टूट जाती हैं ... और दर्द बह जाए तो हल्का हो जाता है मन ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    मन था मेरा संभल गया
    टूटना था जिसे जार-जार
    वो टूट गया...!!!!
    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट "हो जाते हैं क्यूं आद्र नयन" पर आपके बहुमूल्य प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. अच्छी प्रस्तुति,बहुत सुंदर कविता बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    उत्तर देंहटाएं
  28. tutna judna chalta rahta hai...
    par man ke andar khubsurat bhaw sanjona badi baat hai:)

    उत्तर देंहटाएं
  29. आये वो कुरेदने
    तीखे- तीखे शब्दों से
    मन था मेरा संभल गया
    टूटना था जिसे जार-जार
    वो टूट गया...!!!!
    bahut hi achha likha hai apne ....bilkul lajabab .....sadar abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  30. दर्द रिसते-रिसते ढरक जायेगा मगर हाय! दृश्यमान हो जायेगा।
    ..बहुत सुंदर लिखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "धर्मवीर भारती" पर आपका सादर आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं